भक्तों के बीच पहुंचे महाप्रभु जगन्नाथ, बंटा गजामूंग का प्रसाद उड़ीसा के कलाकारों ने उड़िया लोक धुनों पर गीत के साथ नृत्य भी किया धर्म नगरी राजिम में रथयात्रा की रही धूम

Spread the love

“संतोष सोनकर की रिपोर्ट”

राजिम। महाप्रभु जगन्नाथ बलभद्र एवं सुभद्रा ठीक 4:00 बजे मंदिर के गर्भ गृह से निकले और रथ में सवार होकर भक्तों के बीच सीधे पहुंचने लगे। भगवान को पाकर श्रद्धालुओं का भाव विभोर हो गए और उनके प्रिय प्रसाद गजामूंग को प्राप्त कर भाग्य की सराहना करते हुए महाप्रभु की जयकारा लगाने लगे। उल्लेखनीय है कि शहर में भगवान के रथ को खींचने के लिए भक्तों का रेला लगा रहा। क्योंकि पिछले 2 सालों से भक्तगण कोरोनावायरस के कारण रथ नहीं खींच पाए थे इस बार श्रद्धा भाव से दिल खोलकर भगवान के रथ के साथ आगे बढ़े। भीड़ को देखते हुए कुछ लोग रुमाल में भगवान को पैसे चढ़ाने के लिए बांधकर दिए पुजारी ने रुमाल को कैच किया और उनके द्वारा दिया हुआ रूपए पैसे भगवान को समर्पित किए और उनके कपड़े में प्रसाद बांधकर पुनः वापस कर दिए यह दृश्य लोगों को अच्छा लगा। बताना होगा कि आज से 50 साल पहले भी यही पद्धति ज्यादा भीड़ होने पर चलती थी जो आज भी देखने को मिला। भगवान जगन्नाथ की जगह जगह जय कारा होती रही इस अवसर पर मंदिरों में अच्छी खासी भीड़ देखी गई श्रद्धालुओं का घंटी बजा रहे थे और भगवान की भक्ति में तल्लीन हो गए थे। इस बार बैंड बाजा के साथ भगवान की रथ यात्रा नहीं निकली बल्कि मृदंग झांझ मंजीरा की आवाज के साथ उड़ीसा से आए हुए 25 कलाकारों की टीम ने उड़िया लोकगीतों की धुन पर जगन्नाथ की भक्ति के गीत गा रहे थे तथा इसी पर नृत्य करते हुए आगे बढ़ रहे थे लोग रोचकता के साथ नृत्य शैली को देखकर प्रसन्न हो गए। बताना होगा कि ओडिशा और राजिम की सांस्कृतिक धरोहर एक सा है बहुत सारे बिंदुओं पर दोनों जगह के कार्यों की मेल खाती है।रथ के साथ मंदिर के सर्वराकार चंद्रभान सिंह ठाकुर, शिवसिंह ठाकुर, महेंद्र सिंह ठाकुर, संत सिंह ठाकुर, श्रवण सिंह ठाकुर, राजेंद्र सिंह ठाकुर, भारत सिंह ठाकुर, मनोज सिंह ठाकुर, बैकुंठ सिंह ठाकुर, हर्ष सिंह ठाकुर चल रहे थे तथा व्यवस्था को बनाए हुए थे। इनके साथ साथ पुलिस की टीम जिनमें महिला पुलिस बल के साथ ही पुरुष पुलिस बल सुरक्षा पर नजर गड़ाए हुए थे। रथ यात्रा के कारण बाजारों में अच्छी खासी भीड़ देखी गई। आम की कीमत ₹90 से लेकर ₹100 तक रही साथ ही केले की कीमत में उछाल देखी गई एक दर्जन केला आम दिनों में ₹40 में मिल जाता था वह आज ₹70 हो गया था महंगाई ने लोगों को मुसीबत में जरूर डाल दिया। रथ यात्रा देखने आए तीबल सवारी पुलिस के सपड़ में आ गए जिनके कारण उन्हें चालान भी पटाना पड़ा बताना होगा कि चौबे बांधा तिराहा के पास राजिम थाना की पुलिस टीम तिबल सवारी को पकड़ कर यातायात नियमों के उल्लंघन पर रसीद काट रहे थे। इससे राहगीर खासा परेशान हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.