छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार ने महिला स्व-सहायता समूह के 13 करोड़ रुपये ऋण माफ किया, महिलाओ को आत्मनिर्भर व स्वालम्बन बनाने के लिए कांग्रेस संकल्पबद्ध – राजीव शर्मा

Spread the love
“सुभाष रतनपाल जर्नलिस्ट”

जगदलपुर। जगदलपुर जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि आज सांस्कृतिक रूप से हमारा समाज बहुत उदार है, लेकिन कहीं न कहीं महिलाओं के अधिकारों का हनन हुआ है. भाजपा के 15 वर्षो के कुशासन काल में महिला सशक्तिकरण को केवल तमाशबीन बनाकर वाहवाई लुटने का प्रयास किया. आज हमारी सरकार की उपलब्धि क्या है, वो आप हाट बाजारों, शासकीय कार्यक्रमों, प्रदर्शनियों में लगे स्टॉल को देखकर अंदाजा लगा सकते हैं. चीला, फरा से लेकर गौठान तक महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं अपनी उपस्थिति दर्ज कर रही हैं अब गोबर से पेंट भी बनेगा वहीं बिजली उत्पादन होगा महिला स्व-सहायता समूह की बहनें 6 हजार सक्रिय गौठान में गोबर से बिजली उत्पादन करेंगी और पैसे भी कमाएंगी।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हमेशा से महिलाओं को बढ़ावा दिया है सखी स्टॉक सेंटर की वजह से महिलाओं को अनेको सुविधाएं दी हैं ग्रामीण अंचलों में गौठान रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क के रूप में विकसित भी होगा. स्वतंत्रता प्राप्त के संघर्षों में बहुत सी महिलाओं ने कलम को हथियार बनाकर क्रांतिकारियों का मनोबल बढ़ाया था उन क्रांतिकारी महिलाओं को शत शत नमन. नारी शक्ति का नाम लेने पर गर्व होता है आज पूरे प्रदेश में नारियों के उत्थान के लिए भूपेश सरकार ने अनेको कदम उठाए, देश की स्वाधीनता के लिए पुरुषों के साथ महिलाओं ने भी बराबर अपनी भूमिका निभाई।
स्वतंत्रता के लिये हिंदी साहित्य में अनेक स्त्री रचनाकारों ने स्वतंत्रता संग्राम के युग में स्वयं आहुति दी थी साथ ही अपने सृजन से ब्रिटिश शासन के विरुद्ध अपना तीव्र, दृढ़ के साथ सशक्त विरोध दर्ज कि.लुथरान चर्च में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के दो दिवसीय सम्मेलन के अंतिम दिन में उपस्थित वार्ड अथवा समाजिक महिलाओं को इस सुअवसर की बधाई देकर सभा को संबोधित करते जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि देश की स्वाधीनता के लिए पुरुषों के साथ ही महिलाओं ने भी बराबर अपनी सहभागिता दर्ज की है हिंदी साहित्य की अनेक स्त्री रचनाकारों ने स्वतंत्रता संग्राम की याद में स्वयं आहुति दी और साथ ही अपने सृजन से ब्रिटिश शासन के विरुद्ध अपना तीव्र,दृढ़ व सशक्त विरोध दर्ज किया, देश के इन सशक्त रचनाकारों ने अपने पत्रिका के माध्यम से प्राप्त धन को स्वतंत्रता सेनानियों की मदद में लगाई, स्वतंत्रता प्राप्ति के संघर्ष में बहुत सी महिलाओं ने कलम को हथियार बनाकर क्रांतिकारियों का मनोबल बढ़ाया था इनकी कलम में वह ताकत थी कि उस दौर के लोगों में क्रांतिकारी का जज्बा कूट-कूट कर भरने लगा तथा लोग आजादी के लिए मर मिटने को तैयार होने लगे पूरे देश के लोगों के दिलों में क्रांति की ज्वाला भड़कने लगी, श्री शर्मा ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी योद्धा मां होती है उससे बड़ा कोई नहीं, महिलाओं को सशक्तिकरण और आत्मनिर्भर बनाने के लिए कांग्रेस हमेशा कृत संकल्पित है कांग्रेस ने महिलाओं को स्थान देने के लिए 33% आरक्षण का प्रावधान भी रखा है राज्य के संवेदनशील यशस्वी मुख्यमंत्री ने महिलाओं के स्वालंबन और आत्मनिर्भर के लिए कई महत्वपूर्ण जनकल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं जिससे शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण अंचलों की महिलाएं के भी आत्मनिर्भर बनने का सपना साकार होने लगा, आज हमारा छत्तीसगढ़ देश का रोल मॉडल के रूप में जाना पहचाना जाने लगा, भूपेश सरकार की महिला सशक्तिकरण की योजनाएं मील का पत्थर साबित होने लगी प्रदेश सहित बस्तर अंचल की महिलाओं ने इन योजनाओं का भरपूर लाभ उठाया और एक संदेश दिया कि महिलाएं अगर ठान ले तो पुरुषों से आगे निकल सकती हैं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए “महिला हूं लड़ सकती हूं” का नारा देकर महिलाओं को जागरूक करने का प्रयास किया जिसका असर पूरे देश में दिख रहा है, राजीव शर्मा ने कहा कि गौर करने वाली बात है कि मिस यूक्रेन एक ब्‍यूटी क्‍वीन रही हैं, लेकिन वक्‍त आने पर उसने अपने स्‍वभाव के ठीक उलट अपने देश की रक्षा के लिए बंदूक उठाई। विचार किया जाना चाहिए कि इसमें निश्‍चित तौर पर सशक्‍तिकरण के तत्‍व शामिल हैं।
जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री (प्रशासन) अनवर खान ने कहा कि सांस्कृतिक रूप हमारा समाज बहुत उदार है लेकिन भाजपा के कार्यकाल में महिलाओं के अधिकारों का काफी हनन हुआ है महिला के इस स्‍वरूप को महिला दिवस और उसके सशक्तिकरण से जोड़ना ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण है, जब भारत के किसी अनजान गांव में अपने अस्‍तित्‍व और अपनी अस्मिता की हिफाजत के लिए कोई अकेली औरत संर्घष करती है तो वास्‍तविक सशक्‍तिकरण उभरकर सामने आता है ग्रामीण अंचलों के गौठान रूलर इंडस्ट्रीज पार्क के रूप में विकसित होंगे, महिला स्व-सहायता समूह की बहने 6 हजार सक्रिय गौठान में गोबर से बिजली उत्पादन करेंगी और पैसे भी कमाएंगी।
कार्यक्रम के अंत मे उड़ीसा से आये बिसब विधान नायक के द्वारा आभार व्यक्त किया गया कार्यक्रम में मसीह परिवार के पदाधिकारी व सदस्यों सहित नागरिकगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.